Tuesday, May 8, 2018

दिल

दिल बेबाक आईना है उसमे भी देखा करे कभी!
सुन रहे है ना सभी !!
@सर्वेश

दुनियादारी

मत समझो कि सीख ली तूने दुनियादारी आज।
हर दिन ये तो होना है जब तक अंग समाज।।@सर्वेश

Wednesday, April 6, 2016

इशारा है काफी समझ आप जाए

माँ बाप की दुआएं 
गर आप पाएं
इशारा है काफी
समझ आप जाए

चुनावी मौसम 
गर वो दिख जाये 
इशारा है काफी 
समझ प जाए

अदा देख उनकी
गर हार जाए                              
इशारा है काफी
समझ आप जाए

सोचे उन्हे ही 
और वो सपने में आये
इशारा है काफी
समझ आप जाये

जेबे बडी हो 
और झोला छोटा हो जाये
इशारा है काफी 
समझ आप जाये



-    सर्वेश दुबे

Tuesday, August 28, 2012

इश्क और अश्क का कुछ इस कदर रिश्ता ! इश्क के जाते दूर अश्क आखो मे दिखता !!

Tuesday, July 27, 2010

ह्र्दय, तडप और प्यास कविता का अहसास

सोचता था कवि बनूगा
सरल सहज शब्दो को लेकर
ह्र्दयस्पर्शी कविता गडूगा
खुब तलाशे शब्द मैने, पढी
खुब कविताये
कुछ तो हम खुद समझ गये
कुछ वक्त ने समझाये
शब्दो का भन्डार अनुपम
गर्व से मै भर गया
उत्कृष्ट शब्दो से कविता
को मैने भर दिया
शब्द ग्यान के गर्व ने
कविता को नीरस कर दिया
ना दे सका आकार स्वप्न को
जो बचपन मे मैने थे बनाये
ह्र्दय तो खण्डित हो चुका
रात भर अश्रु बहाये
गर्व तो अब मर चुका था
तब मन को हुया अह्सास
कबिता को गुनने के लिये
हो ह्र्दय, तडप और प्यास
-सर्वेश -

Monday, July 26, 2010

मेरा दिल फ़्रिजाइल है

एक लडका जब प्यार के सागर के गोते लगाता है तो अपनी प्रेमिका से क्या अपेक्षा करता है

मेरा दिल फ़्रिजाइल है

मेरी याद मे तुम्हारी
तवियत ना बिगडें
लंच और खाना लेना तगडें
तुम्हारा ख्याल रखने की
ये मेरी स्टाईल है
प्रिये मेरा दिल ना तोडना
ये तो बहुत फ़्रिजाइल है।

जब भी चैट करो मुझसे
एक ही लाईन यूज करना
जितनी भी देर चैट करू
उतनी देर तुम भी करना
तुमसे चैट करने की
ये मेरी स्टाईल है
प्रिये मेरा दिल ना तोडना
ये तो बहुत फ़्रिजाइल है।


ज़ब भी तेरा फ़ोटो देखू
दिल मे कुछ कुछ होता है
सब कुछ तुझे सही बता दू
ऐसा मन मे होता है
तुझसे प्यार जताने की
ये मेरी स्टाईल है
प्रिये मेरा दिल ना तोडना
ये तो बहुत फ़्रिजाइल है।

बकौल तुम मै हू पहला
जिसने तुम को ILU बोला
साफ़ ह्र्दय मै रखता हू
इसीलिये मै तुमसे बोला
तुझसे मन की बात बताने की
ये मेरी स्टाईल है
प्रिये मेरा दिल ना तोडना
ये तो बहुत फ़्रजाइल है।

Thursday, May 20, 2010

प्रकृति की सुन्दरता को इतिहास मत बनाओ

दु:शासन की भूमिका बन्द करो
दोस्तो प्रकृति का चीर हरण मत करो
जल को जहर मत बनाओ
बिना पेड का शहर मत बसाओ

कृत्रिमता को दिखावो को
खास मत बनाओ
प्रकृति की सुन्दरता को
इतिहास मत बनाओ

पेड जब नाराज हो जायेगे
फ़ुल और पत्ते खो जायेगे
अपनी रुठी हुयी महबूबा को
फ़ूल के बिना तुम कैसे मनाओगे

नदियाँ जब सूख जायेगी
मछलियाँ मर जायेगी
अपने मासूम से बच्चे को
कहानियाँ तुम कैसे सुनाओगे

आओ संकल्प ले
पेड को लगाने का
प्रकृति को बचाने को

सर्वेश दुबे